Ad

Mother's Day Status 2019


कुछ इस तरह से माँ हर रोज दगा करती थी,
मै टिफिन में दो रोटी कहता था, वो चार रखा करती थी.


तेरी डिब्बे की वो दो रोटिया कही बिकती नहीं,
माँ, मेंहगे होटलों में आज भी भूख मिटती नहीं…!
!


लबों पर उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो कभी खफा नहीं होती…!!!



ऐ अँधेरे देख ले मुँह तेरा काला हो गया

माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया




जन्नत‬ का हर ‪लम्हा‬ ‎दीदार‬ किया था,

‎माँ‬ तूने ‪गोद‬ मे उठा कर जब ‪प्यार‬ किया था !



जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,

माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है…!!!




घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं,
ढाल बन कर सामने माँ की दुआएँ आ गईं..!!




माँ बाप का दिल जीत लो कामयाब हो जाओगे।
वरना सारी दुनिया जीत कर भी हार जाओगे !




ऊपर जिसका अंत नहीं उसे ‘आसमां’ कहते हैं,

इस जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे ‘माँ’ कहते हैं..!!




मत कहिये की मेरे साथ रहती हैं माँ

कहिए की माँ के साथ हम रहते हैं…!!!



मुझे किसी और जन्नत का नहीं पता,

क्योंकि हम माँ के कदमों को ही जन्नत कहते हैं।





ब एक रोटी के चार टुकड़े हों और खाने वाले पाँच..

तब मुझे भूख नहीं है ऐसा कहने वाली इंसान है – माँ 





मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारों,

“सुबह आँख खुली तो देखा” मेरा सर माँ के कदमों में था 




मंजिल दूर और सफ़र बहुत है…

छोटी सी ज़िन्दगी की फिकर बहुत है…
मार डालती ये दुनिया कब की हमे…
लेकिन ‘माँ’ की दुआओं मैं असर बहुत है!!




एक हस्ती है जो जान है मेरी,

जो जान से भी बढ़ कर शान हे मेरी,
रब हुक्म दे तो कर दू सजदा उसे,
क्यूँ की वो कोई और नही
माँ है मेरी




माँ‬ के लिए क्या ‪शेर‬ लिखूं,

माँ ने ‪मुझे‬ खुद शेर बनाया‬ है.!






Post a Comment

0 Comments